सोमवार, 24 जुलाई 2017

Gazal: आदतन मुझको प्यार करता हैं आदतन उसको वार करना हैं

आदतन मुझको प्यार करता हैं
आदतन उसको वार करना हैं


जीतने वाले शाम को मिलना
हार का जश्न यार करना हैं


या तो वो जीत जाये या फिर में
जो भी हों आरपार करना हैं
आतिश इंदौरी

गुरुवार, 20 जुलाई 2017

Gazal: आग़ हैं पर धुआँ नहीं होता वो पढ़ों जो बयाँ नहीं होता

आग़ हैं पर धुआँ नहीं होता
वो पढ़ों जो बयाँ नहीं होता
एक दुनिया नई बसानी हैं
शख़्स तन्हा जहाँ नहीं होता
बचपना हैं या तो बुढ़ापा हैं
बोन्साई जवाँ नहीं होता
दरमियाँ कोई फिर भी होता हैं
कोइ जब दरमियाँ नहीं होता
भीड़ में हूँ तो क्या हुआ आतिश
शख़्स तन्हा कहाँ नहीं होता
आतिश इंदौरी

मंगलवार, 18 जुलाई 2017

Gazal: रास्ता एक था पर ज़ुदा हो गये करते करते वफ़ा...बेवफ़ा हो गये

रास्ता एक था पर ज़ुदा हो गये
करते करते वफ़ा...बेवफ़ा हो गये

प्यार करते अगर थे दिल-ओ-जाँ से तो
कैसे फिर दूसरो पे फ़िदा हो गये

जी नही पाएँगे एक दूजे के बिन
एक दूजे से फिर भी ख़फ़ा हो गये

जिस्म एक...एक दिल...एक जाँ...थे कभी
धीरे धीरे मगर क्या से क्या हो गये

ज़िंदगी थोड़ी भी साथ गुज़री नही
वादें जन्मों के पल में हवा हो गये
आतिश इंदौरी

Gazal: अब तलक सिर्फ़ मेरे हिस्से बहाने आये क़ुर्बतों के न कभी कोई ज़माने आये

अब तलक सिर्फ़ मेरे हिस्से बहाने आये
क़ुर्बतों के न कभी कोई ज़माने आये

मेरी क़िस्मत में मिलन एक दो पल का ही था
लंबे फिर इश्क़ में फुर्क़त के ज़माने आये

छोड़ के तुम गए थे जिनके सहारे जाना
लोग वो तेरे बहाने से रुलाने आये

प्यार की राह बहुत लंबी हुआ करती हैं
राह में फिर भी कहाँ जल्द ठिकाने आये
आतिश इंदौरी

Sher: आदतन दोस्ती की फिर उस से आदतन जिसको वार करना हैं

आदतन दोस्ती की फिर उस से आदतन जिसको वार करना हैं आतिश इंदौरी